What is Palta/Alankar पलटा/अलंकार क्या है

Palta/Alankar

According to the law, the movement of swar is called Alankar or Palta. The rows of the Alankar are interconnected. Each of the Alankar has Arohan and Avarohan. Avarohan of the Alankar is just the opposite of Arohan, such as:

Arohan: Sa Re Ga, Re Ga Ma, Ga Ma Pa, Ma Pa Dha, Pa Dha Ni, Dha Ni Sa

Avarohan: Sa Ni Dha, Ni Dha Pa, Dha Pa Ma, Pa Ma Ga, Ma Ga Re, Ga Re Sa

Similarly, many Alankars can be made. Alankar is also called Palta. You should practice the Alankar everyday, it is very useful to the throat.


पलटा/अलंकार

नियम के अनुसार स्वरों के चलन को अलंकार या पलटा कहते हैं। अलंकार की पंक्तियां आपस में जुड़ी होती हैं। प्रत्येक अलंकार में आरोहन और अवरोहन होता है। अलंकार का अवरोहण, आरोहण के ठीक उल्टा होता है, जैसे:

अरोहन: सा रे ग, रे ग म, ग म प, म प ध, पी ध नि, ध नि सां

अवरोहन: सां नि ध, नि ध प, ध प म, प म ग, म ग रे, ग रे सा

इसी प्रकार बहुत से अलंकार बनाए जा सकते हैं। अलंकार को पल्टा भी कहते हैं। प्रतिदिन अलंकार का अभ्यास करना चाहिए, इससे बहुत फायदा होता है गले को।


error: Content is protected !!