What is Drut or Chhota Khyal द्रुत या छोटा ख्याल क्या है

Lay

It is clear from the name that the Lay of Chhota khyal is faster than a Big khyal. It is said that Amir Khusro was the first to create a Chhota Khyal in the fourteenth century on the basis of Kauwali.

Taal

Chhota Khyal is usually sung in Teenatal, Japatal and Ekatal. The order of the songs of both Chhota Khyal and Bada Khyal is almost the same, there is only a difference of nature and rhythm.

Alaap, Bol-alaap, Bahlava, different types of tana, sargam, kan, meend, khatka, Murki etc. are used in Chhota Khyal just like Bada Khyal.


लय

नाम से यह स्पष्ट है की बड़े ख्याल की अपेक्षा इसकी लय द्रुत होती है। ऐसा कहा जाता है की सबसे पहले अमीर ख़ुसरो ने चौदह्वी शताब्दी में कौव्वाली के आधार पर छोटे ख्याल की रचना की।

ताल

छोटा ख्याल साधारणतया तीनताल, झपताल और एकताल में गाये जाते हैं। छोटा ख्याल और बड़ा ख्याल दोनो के गाने का क्रम लगभग समान होता है, केवल प्रकृति और लय का भेद होता है।

छोटा ख्याल में बड़ा ख्याल की तरह ही आलाप, बोल-आलाप, बहलावा, विभिन्न प्रकार की तानें, सरगम, कण, मींड, खटका, मुर्की आदि प्रयोग किए जाते हैं।


error: Content is protected !!