What is Lakshan Geet लक्षण गीत क्या है

Lakshan Geet

The song which has the full characteristics of its raga is called Lakshan Geet. Its purpose is that the initial students should remember the full introduction of the raga with the help of the Geet or song.

Lakshan Geet also has two parts like khayal – Sthai and Antara. Its singing style is like khayal. They are mostly sung in the same rhythms in which small khayal are sung. Some features of the geet Dhrupad ang are also found. The Lakshan geet is only for elementary students. Therefore, listening to the Lakshan geet is not available in the music meeting.


लक्षण गीत

जिस गीत में अपने राग का पूरा लक्षण हो उसे लक्षण गीत कहते हैं। इसका मकसद यही है की प्रारंभिक विद्यार्थियों को गीत के सहारे राग का पूरा परिचय याद हो जाए।

लक्षण गीत मे भी ख्याल के समान दो भाग होते हैं – स्थाई और अंतरा।इसकी गायन शैली ख्याल की तरह होती है। ये अधिकतर उन्ही तालों में गाये जाए जाते हैं जिनमें छोटे ख्याल गाये जाते हैं। कुछ लक्षण गीत ध्रुपद अंग के भी पाए जाते हैं। लक्षण गीत केवल प्रारंभिक विद्यार्थियों के लिए होता है। इसलिए संगीत सभा में लक्षण गीत सुनने को नही मिलता है।


error: Content is protected !!