What is Jaati in Raga जाती क्या है, राग में कितनी जातियां हैं

There is an understanding of the number of swaras used by the Jaati in the raga. The five sur Raag is called the Audav, the six swaras Raag is called Shadav, and the Raag of the seven swaras is called Sampurna.

Jaati of Raga

There are some following jaati in Raga. These jaati are fixed on the number of swaras used in the Arohan and Avarohan of Raag.

1.Audav-Audav: Both the Aroh and Avaroh have 5-5 swaras.

2.Audav-Shadav: There are 5 swaras in the Aroh and 6 swaras in the Avaroh.

3.Audav-Sampurna: 5 in the Arohan and 7 in the Avarohan.

4.Shadav-Shadav: Both the Aroh and Avaroh have 6-6 swaras.

5.Shadav-Audav: 6 in the Arohan and 5 swaras in the Avarohan.

6.Shadav-Sampurna: There are 6 swaras in the Arohan and 7 swaras in the Avarohan.

7.Sampurna-Sampurna: Both in the Arohan and Avarohan, there are 7-7 swaras.

8.Sampurna-Shadav: 7 in Aroh and 6 in the Avaroh swaras.

9.Sampurna-Audav: 7 in the Aroh and 5 swaras in the Avaroh.


जाति से राग में प्रयोग किए जाने वाले स्वरों की संख्या का बोध होता है। पांच स्वर वाले राग को ऑडव, छ: स्वर वाले राग को षाडव और सात स्वर वाले रागों की जाती को संपूर्ण कहते हैं।

राग की जातियां

राग में कुछ निम्नलिखित जातियां हैं। यह जातियां राग के आरोह और अवरोह में उपयोग होने वाले स्वरों कि संख्या पर निर्धारित होती हैं।

१.ऑडव-ऑडव: आरोह-अवरोह दोनों में 5-5 स्वर होते हैं।

२.ऑडव-षाडव: आरोह में 5 और अवरोह में 6 स्वर होते हैं।

३.ऑडव-संपूर्ण: आरोह में 5 और अवरोह में 7 स्वर होते हैं।

४.षाडवषाडव: आरोह-अवरोह दोनों में 6-6 स्वर होते हैं।

५.षाडव-ऑडव: आरोप में 6 और अवरोह में 5 स्वर होते हैं।

६.षाडव-संपूर्ण: आरोप में 6 और अवरोह में 7 स्वर होते हैं।

७.संपूर्ण-संपूर्ण:आरोह और अवरोह दोनों में 7-7 स्वर होते हैं।

८.संपूर्ण-षाडव: आरोप में 7 और अवरोह में 6 स्वर होते हैं।

९.संपूर्ण-ऑडव: आरोह में 7 और अवरोह में 5 स्वर होते हैं।


error: Content is protected !!