What is Shuddh Swar शुद्ध स्वर क्या है

Shuddh swar

Out of 22 shrutis, 6 shrutis have been selected which are called Shuddh swaras. These shrutis are spread a little bit in such a way that the entire octave comes. Their names are Shadaj, Rishabh, Gandhar, Madhyam, Pancham, Dhaiwat, Nishaad respectively. For simplicity of pronunciation, it is called Sa Re Ga Ma Pa Dha and Ni.

A question comes to mind here on which basis these seven Shrutis have been chosen. During thousands of years, man himself chose these seven shrutis at a little distance according to his interest.

Distance of the swaras

The distance of the seven Shuddh swaras is expressed in this way. There are 4-4 shrutis of Sa, Ma, Pa, 3-3 of Re and Dha and 2-2 shrutis of Ga and Ni. Each swaras is established on its first shruti.


शुद्ध स्वर

२२ श्रुतियो मे से ७ श्रुतियाँ चुन ली गई हैं जिन्हें शुद्ध स्वर कहा जाता है। ये श्रुतियाँ थोड़ी थोड़ी दूर पर इस प्रकार फैली हुई है की पूरा सप्तक आ जाए
इनका नाम क्रमशः षडज, ऋषभ, गंधार, मध्यम, पंचम, धैवत, और निषाद है। उच्चारण की सरलता के लिए सा रे ग म प ध और नि कहा जाता है।


यहा पर एक सवाल मन मे आता है की किस आधार पर ये सात श्रुतियाँ चुन ली गई हैं। हज़ारों वर्षो के दौरान मानव ने खुद अपनी रूचि के अनुसार थोड़ी थोड़ी दूर पर ये सात श्रुतियाँ चुन ली।

स्वरों की दूरी

सातों शुद्ध स्वरों की दूरी इस प्रकार से व्यक्त की है।
सा, म, प की ४-४ रे, ध की ३-३ तथा और नि की दो दो श्रुतियाँ होती हैं। प्रत्येक स्वर को अपनी प्रथम श्रुति पर स्थापित किया गया है।
जैसे:


error: Content is protected !!