What is Lay (Rhythm) and its Types लय क्या है, लय के प्रकार

In music the same speed or movement is called Rhythm(Lay). As we walk around, read or talk, etc. It has been seen that some words we speak quickly, speak some words slowly. All these actions are my speed. It is also required in music, this motion is called rhythm in music.

Lay (Rhythm) and its Types

There are three types of rhythms. Bilambit, Madhya and Drut Whenever we sing or dance, we have a rhythm at that time. When the rhythm is slow, it is called Bilambit. When the rhythm is simple, it is called Madhya lay and when it gets speed then it is called a Drut lay.

The half speed of the clock’s second speed is considered to be Bilambit. And almost twice the speed of seconds is considered Drut. Any singer can make or exceed the target as per his requirement.


संगीत में समान गति या चाल को लय कहते हैं। जैसे हमारे चलने फिरने, लिखने पढ़ने या बात करने इत्यादि में ऐसा देखा गया है कि कुछ शब्द हम शीघ्रता से बोलते हैं कुछ शब्द को धीरे से बोलते हैं। इन सभी क्रियाओं मैं अपनी गति होती है। संगीत में भी इसकी आवश्यकता होती है, इस गति को ही संगीत में लय कहते हैं।

लय और इसके प्रकार

लय तीन प्रकार के होते हैं। विलंबित, मध्य और द्रुत। हम जब भी गाते बजाते हैं या नाचते हैं तो उस समय कोई ना कोई लय अवश्य रहती है। जब लय धीमी रहती है तो उसे निलंबित कहते हैं। जब लय साधारण रहती है तो उसे मध्य कहते हैं और जब तेज हो जाती है तो उसे द्रुत लय कहते हैं।

घड़ी की सेकंड की जो गति है उसकी आधी गति विलंबित मानी जाती है। और सेकंड की लगभग दुगनी गति को द्रुत मानी जाती है। कोई भी गायक अपनी आवश्यकतानुसार लय को अधिक या कम कर सकता है।


error: Content is protected !!