What is Swar Gyan स्वर ज्ञान क्या है

Swar Gyan

Swar gyan means we can sing any swar without harmonium. Swar gyan is to recognize all swaras on the basis of Sa. Whatever swar we want to sing, we can sing in sur, this is called swar knowledge.

Learning process

When we start learning music, we first learn to practice on harmonium. After a few months of practicing on Harmonium, we begin to understand the sur. Then slowly start practicing on Tanpura. Learning to practice on tanpura is not so easy. After a few months of practice, swar knowledge begins to occur.


स्वर ज्ञान

स्वर ज्ञान का मतलब है, किसी भी स्वर को हम बिना हारमोनियम के गा सके। सा के आधार पर सभी स्वरों को पहचानना ही स्वर ज्ञान है। हम जो भी स्वर गाना चाहे वह सुर में गा सके इसी को स्वर ज्ञान कहते हैं।

सिखने की प्रक्रिया

जब हम संगीत सीखना शुरू करते हैं तब सबसे पहले हारमोनियम पर रियाज करना सीखते हैं। कुछ महीने हरमोनियम पर रियाज करने के बाद हम स्वर को समझना शुरू कर देते हैं। उसके बाद धीरे-धीरे तानपुरा पर अभ्यास करना शुरू करते हैं। तानपुरा पर अभ्यास करना सीखना इतना आसान नहीं। कुछ महीने के अभ्यास के बाद स्वर ज्ञान होना शुरू हो जाता है।



error: Content is protected !!