How to bring Harkat/Murki in throat गले में हरकत/मुरकी कैसे लायें

To bring Harkat/Murki in throat

In order to bring Harkat/Murki in the throat, the first thing to do is to do practice of Basic Paltas/Alankars. Your throat will be ready from the practice of three hours everyday for approximately one year. Then you will start to have Harkat/Murki in your throat.

Understand one thing

It is very important to understand one thing. There is no separate Riyaz for Harkat/Murki/Gayaki in the throat. The most necessary practice for learning music is to do everyday such as Palta/Alankar’s Riyaz. When a few months of Palta/Alankar is riyaz, then the Gamak riyaz is started. The throat is prepared quickly from Riyaz of Gamak, but Ghamak’s Riyaz will not initially be started. For this you have to continue practicing Palta/Alankar every day for several months.


गले में हरकत/मुरकी लाने के लिए

गले में हरकत/मुरकी लाने के लिए सबसे पहले बेसिक पल्टा /अलंकार का रियाज़ खूब करना होगा। लगभग एक साल तक हर रोज तीन घण्टे का अभ्यास से ही आपका गला तैयार होगा। तब जाकर आपके गले में हरकत/मुरकी आना शुरू होगा।

एक बात समझना बहुत जरूरी है।

एक बात समझना बहुत जरूरी है। गले में हरकत /मुरकी /गायकी लाने का कोई अलग से रियाज़ नहीं होता है। जो संगीत सीखने के लिए सबसे जरूरी अभ्यास है वो हर रोज करना होता है जैसे पल्टा /अलंकार का रियाज़। जब कुछ महीने पल्टा/अलंकार का रियाज़ हो जाए फिर गमक का रियाज़ शुरू किया जाता है। गमक के रियाज़ से गला जल्दी तैयार होता है लेकिन गमक का रियाज़ शुरू में गले में नहीं आएगा। इसके लिए आपको हर रोज कई महीनों तक पल्टा/अलंकार का रियाज़ करते रहना होगा।


Watch Video:

✓How to bring Harkat/Murki in throat गले में हरकत/मुरकी कैसे लायें ??

गले मे हरकत मुरकी लाने के लिए कितना राग सीखना चाहिए How much Raag should be learned

How to sing Harkat Murki Meend Khatka Gamak Aakar Taan in Singing


error: Content is protected !!