Harmonium should not be used for learn singing, it should start at the Tanpura हारमोनियम पे रियाज़ नहीं करना चाहिए, इसका उपयोग सही नहीं है, शुरुआत में तानपुरा पर ही रियाज़ करना चाहिए

I believe that

I believe that harmonium is very important to learn music at the beginning. Look, this thing has to be understood a little bit; In earlier times, students used to go to the house of Guru and spend the night on every day and if there were any mistakes The gurus were sitting in front. From morning to evening Riyaz used to go, then it would have been easier to understand Sur.

But in the present age it is difficult to do this. Only half an hour to 1 hour in a week can be given time. Then come home and have to riyaz, come home and understand it. It is very difficult to understand Tanpura in the beginning, it is very difficult to sing on tanpura. Therefore, in order to learn to sing in the early months, harmonium is very important at the beginning. Hermonium will identify you rightly.


बात आपकी सही है

बात आपकी कुछ सही है, पर अगर मेरी माने तो हारमोनियम बहुत जरूरी है शुरुआत में संगीत सीखने के लिए।देखिए इस बात को थोड़ा समझना होगा, पहले के जमाने में विद्यार्थी गुरु के घर जाकर दिन रात रियाज करते थे और कोई भी गलतियां होने पर गुरु सामने बैठे होते थे। सुबह से शाम तक रियाज करते थे तब जाकर सुर को समझने में आसानी होती थी।

पर अभी के जमाने में ऐसे करना मुश्किल है। सप्ताह में आधे घंटे से 1 घंटे ही समय दे पाते हैं गुरु। फिर घर आकर रियाज़ करना पड़ता है, घर आकर सुर को समझना पड़ता है। शुरू के दौर में तानपुरा को समझना ही बहुत मुश्किल है, उसे मिलाना बहुत मुश्किल है, उस पर सुर लगाना बहुत मुश्किल है। इसलिए शुरू के महीनों में गाना सीखने के लिए शुरुआत में हारमोनियम बहुत ही जरूरी है। हरमोनियम आपको सही सुर की पहचान कराएगा।


Learn Singing without Harmonium जिनके पास हार्मोनीयम नही है वो भी संगीत सिख सकते हैं

गाना सीखने से पहले ये वीडियो ज़रूर देखे Harmonium Vs Keyboard/Piano


error: Content is protected !!