What to do after throat damage after riyaz रियाज़ करने के बाद गला खराब होने पर क्या करें How to fix our damage voice

After riyaz, due to which the throat gets damaged, let’s understands.

There is fear of damaging the throat

If you have begun to learn music and in the early hours, if you do too much riyaz, then there is fear of damaging the throat. Do the Riyaz for 2 or 3 months at least 2 hours. Then, when your throat is ready after about 3 months, then you can riyaz for as long as you like.

Throat damage after riyaz

Sometimes it happens that there is a problem in singing in some Swaras of Taar Saptak and you are trying to sing it forcefully for a long time, even then there is fear of damage in the throat. The swaras of the octave is to sing rightly, to riyaz rightly. Do not try to sing the swaras of the Taar Saptak suddenly. The first Sa is Riyaz, then the Riyaz of Kharaj, then the Riyaz of Holding Notes, then some simple Paltas or Alankars you should practice. After that, when the throat is opened, the swaras of the Taar Saptak will be easy to practice.

For most of these Riyaz times, throat is bad due to these reasons, so be careful at the time of riyaz. Riyaz always do in open voice but carefully.


रियाज करने के बाद गला किन किन कारणों से खराब होता है पहले उसे समझते हैं।

तो गला बैठने का डर रहता है

अगर आप संगीत सीखना शुरू किए हैं और शुरुआती के समय में अगर आप अचानक से बहुत ज्यादा रियाज़ कर लेते हैं, तो गला बैठने का डर रहता है। शुरू के 2 या 3 महीने लगभग 2 घंटे ही रियाज किया करें। फिर लगभग 3 महीने बाद जब आपका गला तैयार हो जाए तो फिर आप जितनी देर चाहे रियाज कर सकते हैं।

गला बैठने का डर रहता है

कभी कभी ऐसा भी होता है कि तार सप्तक के कुछ स्वर गाने में दिक्कत हो रही है और बहुत देर तक जबरदस्ती आप सुर लगाने की कोशिश कर रहे हैं, तब भी गला बैठने का डर रहता है। तार सप्तक के स्वर सही से गाना है, सही से रियाज करना है। तार सप्तक के स्वरों को अचानक से गाने की कोशिश नहीं करना है। पहले सा का रियाज़, फिर खरज का रियाज, फिर होल्डिंग नोट्स का रियाज, फिर कुछ साधारण पलटा या अलंकार का रियाज़ करना है। उसके बाद जब गला खुल जाए तब तार सप्तक के स्वरों को ठीक किया जाता है।

ज्यादातर रियाज के समय इन कारणों से ही गला खराब होता है, जैसे गुरु बताएं ठीक वैसे ही समझदारी के साथ रियाज करना चाहिए। रियाज़ हमेशा खुली आवाज़ में ही करना चाहिए लेकिन समझदारी के साथ।


Watch Video:

✓What to do after throat damage after riyaz रियाज़ करने के बाद गला खराब होने पर क्या करें ??

100% Solution आवाज़ खराब, गले की ख़राश, गला बैठने का कारण समझिए

Voice Care आवाज़ बार बार बैठ जाती है, फसती है, गला खराब, गले मे खराश है तो कैसे ठीक करें ??

Singing tips गला खराब होने पर क्या करें ?? Sardi Khasi Bukhar


error: Content is protected !!