What is Tappa टप्पा गायकी क्या है

Words are mostly in Punjabi language

It is a type of song whose words are mostly in Punjabi language. Its nature is very agile. It is sung in ragas Kafi, Bhairavi, Peelu, Desh, Khamaz, Jhinjhoti etc. Shringar Ras is predominant in it.

Singing Style

Like Khayal, the Tappa also has only two parts, the Sthai and the Antara. Its singing style is completely different from other types of songs. There is a lot of use of small and hard taans.

It needs to be sore enough to sing. Khatka, Murki, Kan etc. are used more and more in this. There is a special type of rhythm used with it called Tappa Taal. Tappa is more popular in Punjab, Uttar Pradesh and Bengal. It is said that during the time of Muhammad Shah, Ghulam Nabi Shori invented this type of song.


शब्द अधिकतर पंजाबी भाषा के होते हैं

यह गीत का वा प्रकार है जिसके शब्द अधिकतर पंजाबी भाषा के होते हैं। इसकी प्रकृति बहुत चपल होती है। यह काफ़ी, भैरवी, पीलू, देश, खमाज, झिंझोटी आदि चपल रागों मे गाया जाता है। इसमें शृंगार रस प्रधान है।

गायन शैली

ख्याल के समान टप्पा के भी केवल दो भाग होते हैं, स्थाई और अंतरा। इसकी गायन शैली गीत के अन्य प्रकारों से बिल्कुल भिन्न होती है। इसमें छोटी और पेंचदार तानो का अत्यधिक प्रयोग होता है।

इसे गाने के लिए गला काफ़ी तैयार होना चाहिए। इसमें खटका, मुरकी, कण आदि का प्रयोग अधिकता से होता है। इसके साथ एक विशेष प्रकार का ताल प्रयोग होता है जिसे टप्पा ताल कहते हैं। टप्पे का प्रचार पंजाब, उत्तर प्रदेश तथा बंगाल में अधिक है। कहा जाता है की मुहम्मद शाह के समय में गुलाम नबी शोरी ने गीत के इस प्रकार का अविष्कार किया था।


error: Content is protected !!