Morning Riyaz on lower scale then higher scale Singing tips सुबह नीचे स्केल पर रियाज़ बाद में उपर स्केल पर Fact

Many people believe that

Many people believe that in the morning it should not sing in the upper tone, the Riyaz of such people becomes different rules, themselves make rules which are wrong. If I say right then this is not at all. Yes, it is difficult to sing high note in the morning.

In the morning

In the morning, if you start a high tone, then the neck will have to be emphasized and the sound will not come out properly, It happens with everyone, there is no reason to panic. The throat itself is not always prepared by anyone, it has to work hard every day and move on in the right way. It may also be that today your voice is correct but you may be singing tomorrow and the voice will not accompany you. So here is the daily riyaz, every day you have to work hard in the right way.

Whenever you go to Riyaz

Whenever you go to Riyaz, start from the very beginning. Riyaz of the first holding notes, then slowly basic paltas, then next lessons, by doing this, at least two hours just revision, then the voice opens. Even after doing so, whether in the morning or in the evening, the voice will come out well by doing all the riyaz.

Make sure you will Riyaz properly and start Basic palta/alankar everyday whenever you sit for Riyaz, whether it is morning or evening.


बहुत लोगो का ये मानना है

बहुत लोगो का ये मानना है कि सुबह में उचे सुर में नहीं गाना चाहिए, ऐसे लोगो का रियाज़ का अलग अलग नियम बन जाता है, खुद से ही नियम बना लेते हैं जो गलत है। अगर मैं सही बोलू तो ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। हां, ऐसा जरूर होता है कि सुबह के वक़्त सुर लगाना थोड़ा मुश्किल होता है।

सुबह का रियाज़

सुबह अगर आप अचानक से ऊंचा सुर लगाइएगा तो गले पर जोर देना होगा और आवाज़ भी सही से नहीं निकलेगी ऊंचे स्वर पे। ऐसा सबके साथ होता है इसमें घबराने की बात नहीं है। गला खुद से ही हमेशा तैयार किसी का नहीं रहता है, सही तरीके से हर रोज मेहनत करके आगे बढ़ना पड़ता है। ये भी हो सकता है कि आज आपकी आवाज़ सही है पर हो सकता है आप कल गाने बैठे और आवाज़ आपका साथ ना दे। तो यहां हर रोज रियाज़ करना होता है, हर रोज मेहनत करनी पड़ती है सही तरीके से।

जब भी रियाज़ करने बैठे

जब भी रियाज़ करने बैठे तो एकदम शुरुआत से शुरू कीजिए। पहले होल्डिंग नोट्स का रियाज़, फिर धीरे धीरे हल्का पलटा, फिर थोड़ा भारी पलटा फिर और भारी पलटा, इसी तरह करके कम से कम दो घंटे सिर्फ पलटा करना होता है, तब जाके आवाज़ खुलता है। तो इतना करने के बाद चाहे सुबह हो या शाम, आवाज़ ऊंचे और नीचे सभी सुरों कर अच्छे से निकलेगी।

तो मैं कहूंगा की आप ऐसा ना करें तो बहुत अच्छा होगा। सुबह में नीचे स्केल या सुर पे रियाज़ और शाम में ऊपर के स्केल या सुर पर रियाज़, ये सोचना ही गलत है। आप सही तरीके से रियाज़ का लेसन बना लीजिए और हर रोज जब भी बैठिए रियाज़ के लिए तो शुरू से शुरू कीजिए, वो चाहे सुबह हो या शाम।


Singing tips सुबह का रियाज़ गला सुरीला बनाए Morning Evening Riyaz Make vocal cord better

मैं रोज कैसे रियाज़ करता हूँ

फिल्मी गाना गाने के लिए रियाज़

Common mistakes in Singing संगीत सीखने वाले ये ग़लतियाँ कभी ना करें Singing Tips for Beginners


Related Posts

1 thought on “Morning Riyaz on lower scale then higher scale Singing tips सुबह नीचे स्केल पर रियाज़ बाद में उपर स्केल पर Fact

Comments are closed.

error: Content is protected !!