In Which Raga or Thaat, Riyaz of Alankar should do अलंकार का रियाज किस राग या थाट में करना चाहिए

In the beginning

In the beginning, at the time of Palta Alankar practice, it is necessary to use the straight swar. There should be no singing on the Swaras while doing riyaz. Because the main purpose of Riyaz of Palta Alankar is to understand Sur and Prepare your throat.

You can do Palta Alankar on any thaat or Raag But I have to say that during the learning of Raag, there is a good grip on Komal and Tivra Swar while practicing the Pakar, Taan, Sargam of Raag.

Who have started learning

For those who have started learning, I will say that the riyaz of the Palta Alankar is done only on Suddh Swar and prepare your throat. When the throat will be ready, after all learning the Raag, Riyaz of all Komal and Tivra Swaras starts to happen by itself. In the beginning, the more time you give on the Palta Alankar the more your throat is ready.


शुरुआत में

शुरुआत में पलटा या अलंकार का रियाज करते समय सीधा स्वर का प्रयोग करना है। रियाज करते वक्त स्वरों पर कोई गायकी नहीं होनी चाहिए। क्योंकि पलटा अलंकार के रियाज का मुख्य उद्देश्य है सुरों को समझना और अपना गला तैयार करना।

किसी भी थाट या राग पर पलटा अलंकार का रियाज कर सकते हैं इसमें कोई हानि नहीं है। पर मेरा कहना है राग सीखने के दौरान राग की पहचान, तान, सरगम का अभ्यास करते करते कोमल और तीव्र स्वर पर अच्छी पकड़ बन जाती है।

जिन्होंने सीखना शुरू किया है

जिन्होंने सीखना शुरू किया है उनके लिए मैं यही कहूंगा कि पलटा अलंकार का रियाज सिर्फ शुद्ध स्वर पर सही ढंग से करें और अपना गला तैयार करें। गला जब तैयार हो जाएगा उसके बाद राग सीखने के दौरान सभी कोमल और तीव्र स्वरों का रियाज खुद-ब-खुद होने लगता है। शुरुआत में जितना ज्यादा वक्त आप पलटा अलंकार पर देंगे आपका गला उतना ज्यादा तैयार होगा।


Watch Video:

✓सभी थाटो पर अलंकार या पलटा का रियाज़ Riyaz of Alankars Paltas Sargam on all Thaat Right/Wrong Facts

कोमल स्वरों का रियाज़ कैसे करें Riyaz Komal swaras Facts Singing practice tips


Related Posts
error: Content is protected !!